शनिवार, 22 अगस्त 2020

कवि प्रकाश कुमार जी द्वारा रचित मुक्तक

माँ धरती के लाल है हम।
इसको स्वर्ग हम बनाएंगे।।
इसकी हर कण के लिए।
हम कतरा कतरा बहाएंगे।।

प्रकाश कुमार
मधुबनी, बिहार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें