रविवार, 26 जुलाई 2020

रूपा व्यास द्वारा 'कलम और शब्द' विषय पर छंदमुक्त ,अतुकांत रचना।

#नमन 'बदलाव मंच' 
#विषय-'कलम और शब्द'
#विधा-पद्य(छंद मुक्त,अतुकांत)


विषय - 
       *'कलम,शब्द और साहित्य'*

शब्द हैं तो कलम है।
कलम है तो शब्द।।
मन में लिखने की चाह।
अथवा हो कोई राह ।।
तो हस्त चल पड़ते हैं।
ह्रदय-उद् गार आपस में लड़ जाते  हैं।।
समाज में हो कोई बदलाव ।
तो लेख दूर करे हर भ्रांति।।
संसार से मिल रहा दुःख।
तो कविता प्रदान करती आंतरिक सुकून ।।
प्रेम,करुणा व हास्य हैं, इसके अनेक रंग, 
तो तुम दुःख से क्यों करते अपने तन को कुरूप।
कलम से लिखो, 
शब्दों को आत्मसात करो , 
अपने जीवन को आदर्शमय बनाओ।
अच्छे सृजन से साहित्य को सजाना चाहिए।
कलम व शब्द के महत्व को समझना चाहिए।।
                            
स्वरचित व मौलिक रचना।
नाम-रूपा व्यास
पता.'परमाणु नगरी'रावतभाटा, चित्तौड़गढ़(राजस्थान)
ईमेल-
rupa1988rbt@gmail.com

              -धन्यवाद-

1 टिप्पणी: