शनिवार, 25 जुलाई 2020

अज़हर अहमद शायराना अंदाज़ में

1.कहा था मौत,
कल मिलने आउंगा,
सदियों बित गए,
तुम्हे लेने आउंगा, 
सुना हू यहां लोग,
तुम्हे दुवाए ख़ूब देते है,
माफ़ कर दोस्त - मै सिर्फ,
तुम्हे देखने आऊंगा |
       ...Azhar Ahmed
2.सुहाना है मौसम,
दीवाना बना देगा,
दीवाना है इश्क,
आवारा बना देगा,
आवारगी से तो अच्छा है,
क्यूँ  न चले हम अकेले,
मुसाफ़िर कह-कह कर,
ये दुनिया आवारा बना देगा।
3.तुमसे हो के खफ़ा,
खुद को भुला दिया हूँ ,
शहर से बड़ी दूर,
अपना घर बसा लिया हूँ ,
ख़ूब मनाया जश्न ,
तुमसे दूर होने पर,
दिल को अच्छी लगी तेरी तस्वीर,
तो घर में लगा रख्खा हूँ ।
      ... Azhar Ahmed

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें