सोमवार, 13 जुलाई 2020

राखी

राखी

 

   पापा     जल्दी    उठ जाना
                       तुमको बाजार है जाना
   सो पचास राखी लेकर आना
                क्या बात बेटा जरा समझाना
   पापा राखी का त्यौहार
                         धूम धाम से है  मनाना
   सीमा पर जो पल पल पापा
                          लगा रहे जान की बाजी
   इस बार तो बाँधुगी  राखी
                           उनको  मैं       पिताजी
  सीमा पर जाकर मनाऊँ
                             राखी का     त्यौहार
   माथे रोली तिलक लगाऊं
                               हाथों मै बाँधु राखी
     हाथों से मिठाई  खिलायू
                            खुश होंगे मेरे वीरा जी
    मन ही मन मैं फक्र करूंगी
                       जब खुश होंगे मेरे वीरा जी
    .पापा बाजार    जाना
                        सौ पचास राखी ले आना
    खुश होगया पापा बेटा
                      .  सुनकर  तेरे     जज्बात
   सीमा पर हम भी चलेंगे
                          मनाने राखी का त्यौहार
   देश की खातिर पल पल
                         जो जीने मरने कॊ तय्यार
   वो ही तो सच है बेटा
                            इस राखी के   हकदार
   राखी संग मीठाई ले चलेंगे
                          और सेवई पूरी और खीर
    संग मिलकर खाएंगे देश के वीर
                        खुल जाएगी अपनी तक़दीर
    बेटा चलेंगे सीमा पर
                       राखी    का त्यौहार मनाने
    पापा खुश होजाए मेरे वीरा
                      मुझको अपनी बहन बनाकर
    मैं भी गर्व करूँगी   पापा
                        सीमा पर त्यौहार मनाकर
   " लक्ष्य" हम भी सलाम करेगे
                           इस बार सीमा पर जाकर

                     निर्दोष लक्ष्य जैन
                        धनबाद    झारखंड
                           ६२०१६९८०९६
                                ८।७।२०२०

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें