मंगलवार, 14 जुलाई 2020

सुहानी सी ठंडी हवा

सुहानी सी ठंडी हवा


सुहानी सी ठंडी हवा
काले बादल और
रिमझिम बरसती वर्षा
बिजली की गर्जन
और उसकी चमकती छटा
वह बारिश के मीठे मीठे कन
एहसास ने किया प्रसन्न
खो गए हम सब कुछ
ना रहा अपना पता।

भीग उठा तन बदन
पायल ने किया छन छन
नृत्य करने लगा मन
बज उठे घुंगरू
हो गई में  मगन
तोड़ के सारे बंधन
करती हूं, प्रकृति का
जिसने बनाया, उसे नमन।

यह पेड़ों पर पत्तियों का हिलना
उन पर बारिश की बूंदों का मचलना
खुशी में झूमे नाचे सब पेड़
कभी तन जाते जवान बनकर
कभी झुक जाते, लगते अधेढ़
पक्षी भी भूल के दुनियादारी
ठंडी ठंडी फुवारों से, कर के यारी
सावन के झूले में लगे हैं झूल।


कल्पना गुप्ता /रत्न

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें