बुधवार, 29 जुलाई 2020

फिर एक नई सुबह आई है

फिर एक नई सुबह आई है,*
एक रंग नया  लेकर आई है,*

चलो उठो खुद को रंगते हैं,* 
अपने तो पालक रघुराई हैं*.. 
           *भ्रमरपुरिया*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें