गुरुवार, 9 जुलाई 2020

चँद्र सुंदर दुल्हा सलोना तारों के संग नाचे छौना माँ मेरा भी ब्याह करा दे ,चाँदनी को दुल्हन बना दे ।

चँद्र सुंदर दुल्हा सलोना 
तारों के संग नाचे छौना 
माँ मेरा भी ब्याह करा दे ,
चाँदनी को दुल्हन बना दे ।।

विभा गहन श्वेत धवल आवरण 
उर में उमंग खेले मनभावन ।
सुंदर परी चाँदनी उतरी,
प्रीतम को देख लज्जाए संवरती।।

रातरानी, बेली ,चंपा ,जूही 
मदमस्त महके बतियाते यूँ ही ।
हर श्रृंगार स्वागत में बिछ जाते ,
ज्यों हर्षाकर सेज सजाते ।।

ओस की बूँदे मोती बनकर ,
झिलमिल- झिलमिल गीत गाएँ !
सृष्टि आनंदित शहनाई बजाएँ,
तारे टिमटिमाएँ, जुगनू मुस्कुराएँ ।।

अंशु प्रिया अग्रवाल 
मस्कट ओमान स्वरचित

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें