रविवार, 12 जुलाई 2020

शराब

शराब

    शराब है महफ़िल की शान
बनती इस से महफ़िल की जान
यह है शराबी की पहचान
नशे मे हो जाए ज्ञानी और गुणवान

 क्या गरीब क्या अमीर
बहुधा हैं इस के गुलाम
 पी कर समझे अपने को गुलफाम
सदा होवें इस के गुलाम
   
  बीवी बच्चों को भूला कर 
छिड़के सदा शराब पे जान 
नशे के आलम मेअपने आप को समझे बेसूरा तानसेन 
छेड़े  गीत की वेसूरी  तान
   
  शराब के मद में बनता शेर
बीवी के सामने हो जाता  ढेर
 
  नशे के आलम में झूमता रहता
गमों को हल्का करता रहता
कभी हंसता वो रोता रहता
अपनी धुन में रमता रहता

   पल भर की खुशी के लिए घर है,अपना वो जलाता
पूरे घर को सूली चढ़ाता
 नशे में अनाप-शनाप बकता जाता 
होश आने पर सूफी हो जाता

 नशे में समझे खुद को साहिर
ढूंढता रहता है वो साहिल
पी कर बन जाता वो जाहिल
इस से कुछ नहीं होगा हासिल

                                 अशोक शर्मा वशिष्ठ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें