मंगलवार, 28 जुलाई 2020

इश्क़ की लौ में दिल का दिया जलाकर देखूँ सोचता हूँ मैं आज उसे हाथ लगाकर देखूँ।।

नज्म

इश्क़ की लौ में दिल का दिया जलाकर देखूँ
सोचता हूँ मैं आज उसे हाथ लगाकर देखूँ।।

मुहब्बत की राहों का मुझे कोई खबर नही
पर चाहत है की उससे दिल लगाकर देखूँ।।

कहते हैं इश्क में लोग खुद को फना कर देते हैं
प्यार में उसके मैं भी खुद को भुलाकर देखूँ।।

सुना हैं कि वो चाँद सी सुंदर  दिखती है
जरा मैं भी चाँदनी छटा में नहाकर देखूँ।।

इश्क़ प्यार पूजा इबादत गर सब एक है
तो मैं भी उसके दर पर सर झुका कर देखूँ।।
                   
                 @ सुजीत संगम

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें