शुक्रवार, 31 जुलाई 2020

संघर्ष बहिष्कृत था जिनका साहित्य दायरे में लाए : मुन्शी प्रेमचन्द

          संघर्ष 
--------------------------
जिनको ठोकर मिली राह ,
मन के हर-घर बौने पाये ।
संघर्ष बहिष्कृत था जिनका ,
साहित्य दायरे में लाए ।।
होरी ,धनियां ,मंगल ,गंगी,
घीसू घर साहित्य के आये ।
पत्थर पर करते चोट"प्रेमचन्द",
 नहीं विवादों से घबराए ।।

कोई कहता रूप बाहरी ,
स्त्री मन की समझ नहीं ।
सबक जटिलता के मन का,
घृणा प्रचारक परख नहीं ।।
प्रगतिशील लिखता है कोई ,
गांधीवाद नजर ढाये ।

"सोजे-वतन "प्रकाशन से ,
प्रतिबंध लगा जब लेखन को ।
धारा बदल सकी ना चिन्तन ,
अपनत्व वतन के चेतन को ।।
धनपत राय नबाब बने ,
मुन्शी फिर प्रेमचन्द छाए ।

हो स्तब्ध  वतन पीड़ा से ,
आशा का मन-दीप जलाए ।
अपनत्वबोध से मुक्तिबोध,
आदर्श हीनता छू नही पाये ।।
लिख क्या ? सकता "अनुज "तुम्हें,
कलम -सिपाही मन भाए ।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज "
अलीगढ़( उत्तर प्रदेश)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें