शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

चमचागीरी महिमा

चमचागिरी महिमा

  यदि पोजीशन चाहिए तो चमचागिरी कर
न कोई मेहनत न कोई काम
इस में लगे न कोई दाम
इस पेशे में  नाम ही नाम
      
    बस बास के बनो गुलाम
निकलवाओ तुम सब के काम
विरोधियों का करो काम तमाम
चुगली करके करो उनका जीना हराम

  खूब मिलेगा तुम को दाम
लोग बनेंगे तुम्हारे गुलाम
तुम हो जाओगे गुलफाम

  
  बास जब तुम पर खुश होते
बड़े बड़े तोहफे तुम्हें देते
तुम उनका मानते उपकार
करते कभी न किसी का उपकार

  पैसे से तुम करते प्यार
पैसा ही  है तुम्हारा यार
शत्रु कम मित्र हजार 
स्ट्रांग होगा तेरा आधार

               अशोक शर्मा वशिष्ठ

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें