शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

उनकी गफलतों को हम , नज़रंदाज़ करते रहे ।



उनकी गफलतों को हम ,  नज़रंदाज़ करते रहे । 
उन्हें अदावत थी हमसे , 
फिर भी हम प्यार करते रहे ॥ 
जानें कब भड़क जाए मेरे इश्क का शरर । 
उनके  इक़रार का इन्तजार करते रहे  ॥ 

विशाल चतुर्वेदी " उमेश "

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें