बुधवार, 15 जुलाई 2020

पेड़ लगाओ खूब रै, भोत पुन्य को काम।

पेड़ लगाओ खूब रै, भोत पुन्य को काम।
घर घर लागै पेड़ जै, हरा  भरा हो  गाम।
हरा भरा हो  गाम, फेर आवै खुशहाली।
देवै   सीली   छाँव, हुवै   सारै  हरयाली।
कहै भारती सुणो, पेड़ ना काट बगाओ।
बरस रही बादली, गाम म्ह पेड़ लगाओ।

              - भूपसिंह 'भारती'

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें