रविवार, 12 जुलाई 2020

मेरा हौसला

मेरे हौसलों में है दम  । 
तकदीर बदलेंगे हम ॥ 
अगर असफलता है मेरी । 
तो सफलता भी है मेरी ॥ 
कोशिशें भी अब मेरी , हैं नही किसी से कम । 
मेरे हौसलों में है दम  । 
तकदीर बदलेंगे हम ॥ 
भाषा क्लिष्ठ ही सही , पर पढूंगा जरूर । 
राह मुश्किल सही , पर चलूंगा जरूर ॥ 
बढ़ते जाएंगे मेरे , अब मंजिल पर हर कदम । 
मेरे हौसलों में है दम  । 
तकदीर बदलेंगे हम ॥ 
सरिता कितनी भी उफने , पार जाऊँगा मैं । 
तूफान कितना भी रोके , ना हार मानूँगा मैं ॥ 
तोड़ दूंगा सभी , असफलता के मैं भ्रम । 
मेरे हौसलों में है दम  । 
तकदीर बदलेंगे हम ॥ 

सर्वमौलिक अधिकार सुरक्षित 
विशाल चतुर्वेदी " उमेश "
जबलपुर मध्यप्रदेश
बदलाव अंतर्राष्टीय राष्ट्रीय मंच 
वीडियो सहकाव्य प्रतियोगिता 

--------------------
दिनांक -12/07/2020

     शीर्षक - मेरा हौंसला 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें