सोमवार, 20 जुलाई 2020

कोरोना में शरीर को लौक नहीं करें

कोरोना  में शरीर को लौक नहीं करें

*डा. सत्यम भास्कर*
वरिष्ठ भौतिक चिकित्सक

*इन दिनों न सिर्फ खानपान, बल्कि व्यायाम से भी आप अपनी इम्यून सिस्टम बढ़ा सकते हैं...*

यदि इन दिनों आप घर पर समय व्यतीत कर रहे हैं, तो व्यायाम को अपने जीवन का मुख्य अंग बनाएं.
आइए, ऐसे ही कुछ महत्त्वपूर्ण व्यायाम जानते हैं, जिन्हें आप घर पर ही कर सकते हैं :

*आवश्यक सामग्री :* खल्ली यानी चौक, चटाई, तौलिया। 

• सब से पहले आप घर के सब से बड़े जगह का चयन करें। किसी भी खल्ली से फर्श पर बड़ेबड़े बौक्स बना दें।

• अब आप तैयार हो जाएं, तो आप को एक पैर से ही बौक्स में चलना है। जब आप का बौक्स पूरा हो जाए तो दूसरे पैर से ऐसा ही करना है। ऐसा कम से कम 10 बार करें- 5 दाएं पैर से और 5 बाएं पैर से। 

• अब दोनों पैरों से 1 बौक्स छोड़ कर कूदने का प्रयास करें। ऐसा 10 बार करें।

• अब आप को थोङी थकान महसूस होगी। आप चाहें तो घूंटघूंट कर थोड़ा सा पानी पी सकते हैं, इतना कि सिर्फ गला तर हो।

• अब आप लंबी बनी रेखा पर बिलकुल छोटेछोटे कदम रखें। दोनों पैरों के बीच जगह नहीं बचनी चाहिए। ऐसा 5 बार करें।

• अब आप जितने बङे कदम चल सकते हैं, चलें। फिर पीछे की ओर चलना है, मतलब उलटी चाल। ऐसा 5 बार करें।

• पसीना आने पर उसे पोंछते रहें यों ही नहीं छोड़ दें।

पेट के बल लेट जाएं, 
अपने दोनों हवेलियों पर टुड्ढी को रखें, दोनों कंधे खिंचते हुए प्रतीत होंगे, ऐसा एक मिनट तक करें.
इस दरमियान आपकी नजरें उपर की ओर होनी चाहिए.
आपको चक्कर आता है तो लाभकारी होगा, कंधे का दर्द, गर्दन के दर्द में उपयोगी है.

एक तकिया लें, 
पीठ के बल लेट जाएं, आपको तकिया कमर के नीचे रखना है, अब आपके कमर का हिस्सा ऊपर की ओर ऊठा होगा. आपके दोनों हाथ कमर के पास होने चाहिए.
कम से कम २ मिनट तक ऐसा करें. आपको कमर के दर्द से राहत मिलेगी.

• अब आप आराम से चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं, दोनों हाथों को व पैरों को जितना फैला सकते हैं फैला कर अपनी आंखों को बंद कर लें।
सांसों की गिनती करें यानी अपने धड़कनों को महसूस करें। आपकी सारी थकान जाती महसूस होगी, आप ऊर्जावान महसूस करेंगे.५ मिनट तक ऐसा कर सकते हैं.

आज के लिए इतना काफी है, शेष जल्द ही...

*लेखक वरिष्ठ भौतिक चिकित्सक हैं और आयुस्पाईन होस्पिटल, दिल्ली के डायरैक्टर व विभागाध्यक्ष हैं*
*वरिष्ठ व्याख्याता, पोषण व प्राकृतिक स्वास्थ्य विज्ञान संघ, दिल्ली*
*उपाध्यक्ष बिहार फिजिओथेरेपी क्लब*
*कार्यकारी अधिकारी फिजिओथेरेपी कोनफेडरेशन आफ इंडिया🇮🇳*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें