मंगलवार, 28 जुलाई 2020

तुलसी दास जी के स्मरण मे आयोजित ऑनलाइन कवि सम्मेलन



काव्य रस धारा शंकरदान 
मानस ने भाव बताए थे
 तुलसी बिन राम अधूरे थे

मर्यादा की बातें होती 
अपनों की घातें होती 
बंधन बताए जाते हैं 
हर रिश्ते यहीं पर आते हैं
संवेगों की बातें सारी 
भाव भी सब पूरे थे 
मानस ने भाव बताए थे
 तुलसी बिन राम अधूरे थे 

धर्म ध्वजा भी लहराई 
पाप का अंत हुआ माना 
सत्य की खोज हुई पूरी 
हर रिश्तो को पहचाना 
भाई पिता पुत्र पत्नी 
प्रण सबके यहां पूरे थे 
मानस ने भाव बताए थे
 तुलसी बिन राम अधूरे थे

राम बिना न धर्म हो पूरा 
राम बिना है मनुज अधूरा 
राम बिना मुक्ति ना होती 
राम बिना वाणी न पिरोती 
राम ही राम राम ही राम 
भजन भाव न अधुरे थे
मानस ने भाव बताए थे
 तुलसी बिन राम अधूरे थे

सत्साहित्य की बातें होती 
हरिधुन की भी रातें होती 
मानस की चौपाई गाए 
धर्म ध्वजा को फिर लहराए 
बिना रचनाकार भूमि अधूरी 
तुलसी संग राम भी पूरे थे 
मानस ने भाव बताए थे 
तुलसी बिन राम अधूरे थे

                     शंकर दान 
                       जोधपुर
                      राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें