गुरुवार, 30 जुलाई 2020

सावन की छटा


    🌿 सावन की छटा🌿

 अम्बर -अचला मनमोदित,
         ऋतुओं का रंग सुहाना ।
          गरज-गरज बदरा बरसत,
             गावत मन- मधुर तराना।
                 चपला-चंचल  चमकत,
                  अद्भुत आक्रोशित अंबुधर।
                       वसुधा तन तपन मिटाना,
                     अब शीतल-जल झम-झम
                   बरसावत ,कजरी गावत,
                   जिया जरावत,नैना मटकावत
                  दामिनी  दर्पण दिखलावत
               मौसम मिजाज आशिक़ाना
        घन  गरज-बरस डेरवावत।
     आयोजित अम्बर-उत्सव ।
  झूम-झूम मोर पपीहा गावत,
      सुमन-सुगंधि मह-मह महकावत।
        हर्षित -बयार शीतल-फुहार,
            मधुर स्वर झींगुर गावत गाना।
               मंडूक क्षण-क्षण शोर मचावत ,
                  बसुधा सरस-सुहावन सुन्दर।
                     पूरित-जल सरिता सुर-सागर,
                  दुर्लभ दिनकर दर्शन लागत।
                   ओट छुपत घनघोर घटा के,
                  सुन्दर मुखड़ा शशि छुपावत।
                     दामिनी दीपक दिखलावत,
                         मन ही मन रजनी लजावत।
                            सुन्दर सुमन सुरभि बिखरावत,
                                क़ुदरत का अद्भुत नजराना।

                             💐 समाप्त💐
"सर्वाधिकार सुरक्षित''
मौलिक एवं स्वरचित
शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें